जानें ज्योतिष शास्त्र की शाखाओं के बारे में।

ज्योतिष शास्त्र की शाखाओं

आकाश में हो रहे बदलाव  और पृथ्वी पर घटने वाली घटनाओं के बीच के संबंधों का अध्ययन ज्योतिष शास्त्र है। इसका इतिहास समृद्ध और विविध है। जब आप वास्तव में ज्योतिष के इतिहास जानना शुरू करते है तो आप ये जानकर हैरान हो जायेंगे कि ज्योतिष के बारे में जितना जाना जाए उतना कम लगता है। इस लेख में जानें ज्योतिष शास्त्र की सभी शाखाओं के बारे में।

आज ही हमें कॉल करके अपना स्लॉट बुक करें और पाएं सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषीय परामर्श विश्व प्रसिद्ध ज्योतिषी श्री आलोक खंडेलवाल द्वारा ।

• पारंपरिक ज्योतिष शास्त्र

मिस्र से लेकर काबुल, भारत और चीन की सभी संस्कृतियों ने ज्योतिष शास्त्र को अच्छी तरह से विकसित किया है। विद्वानों ने ज्योतिष शास्त्र को “शगुन-आधारित” (ओमेन एस्ट्रोलॉजी) ज्योतिष भी कहा है। ज्योतिष शास्त्र के इन शुरुआती रूपों को कभी-कभी पारंपरिक या शास्त्रीय ज्योतिष कहा जाता है। इसके प्रमुख रूपों में शामिल हैं

• हेलेनिस्टिक ज्योतिष शास्त्र

हेलेनिस्टिक ज्योतिष एक विशिष्ट जगह और समय पर आकाश को एक नक्शे के रूप में अध्ययन करने से सामने आया। 21 शताब्दी ईसा पूर्व में अलेक्जेंड्रिया मिस्र में ग्रीक काल के दौरान आया। जन्म चार्ट को आज हम पश्चिमी ज्योतिष के रूप में जानते हैं जिसमें सात ग्रह (सूर्य, चंद्रमा, बुध,शुक्र, मंगल, बृहस्पति और शनि), 12 चिन्ह और 12 घर शामिल हैं।

• ज्योतिष / भारतीय ज्योतिष शास्त्र

हेलेनिस्टिक ज्योतिष शास्त्र ने सिकंदर के साम्राज्य के साथसाथ पूर्व में मौजूदा स्वदेशी सिंधु नदी घाटी के ज्योतिष के साथ मिलकर भारतीय ज्योतिष शास्त्र को जन्म दिया। भारतीय ज्योतिष शास्त्र का अर्थ है ;प्रकाश का विज्ञान।

• चीनी ज्योतिष शास्त्र

चीनी ज्योतिष शास्त्र पांच तत्वों, सिद्धांत, दर्शन, चिकित्सा और कुछ हेलेनिस्टिक ज्योतिष शास्त्र के साथ के स्वदेशी ज्योतिष शास्त्र अभ्यास का संयोजन है। चीनी ज्योतिष शास्त्र यूरोप और एशिया के ज्योतिष शास्त्र के अन्य रूपों की तुलना में चक्रीय संख्यात्मक मायने पर निर्भर करता है।

• अरबी ज्योतिष शास्त्र

हेलेनिस्टिक और रोमन साम्राज्यों की गिरावट के बाद अरबी संस्कृतियों ने पश्चिमी ज्योतिष की ज्योति को जीवित रखा। अरब ज्योतिषियों ने उसी ज्योतिष शास्त्र में अपने अतिरिक्त अंक (अरबी पार्ट्स) और अपने स्वयं के चंद्र ज्योतिष शास्त्र को जोड़ा।

• मध्यकालीन / पुनर्जागरण ज्योतिष शास्त्र

अरबी ज्योतिष शास्त्र के पुनर्मिलन के बाद मध्ययुगीन और पुनर्जागरण शास्त्र ने नई चीज़ों पर जोर दिया जैसे कार्य के लिए शुभ समय चुनना, जादुई तावीज़, चिकित्सा से रोगों का निदान।

आधुनिक ज्योतिष

17 वीं और 18 वीं सदी में वैज्ञानिक क्रांति से पश्चिमी दुनिया में ज्योतिष के अभ्यास में कमी आई। हालांकि 19वीं शताब्दी के मध्य में आधुनिक पुनर्जागरण के साथ थियॉफी, मनोविज्ञान और बाद के नवयुग आंदोलन के साथ ज्योतिष ने नया रूप लिया। आधुनिक ज्योतिषीय विद्यालय ने ज्योतिष शास्त्र के साथ नए तथ्य जोड़े जैसे नए खोजी ग्रहों की खोज करना।

ज्योतिषीय विचारों के स्कूलों में वृद्धि हुई है

• गुप्त /गूढ़ ज्योतिष (एसोटेरिक)

20 वीं शताब्दी की शुरुआत में एलन लियो और एलिस बेली जैसे थियोसोफिस्ट ने थियोसोफिकल सोसाइटी के विचारों और ज्योतिषीय अभ्यासों में पौराणिक शिक्षाओं को शामिल किया। उन्होंने अपने कार्य में ज्योतिष के प्राचीन आध्यात्मिक पहलुओं पर गौर दिया। उन्होंने साथ ही साथ संकेतों और ग्रहों के बीच के वैकल्पिक संबंध पर जोर दिया।

• यूरेनियन ज्योतिष शास्त्र / हैम्बर्ग स्कूल

20 वीं सदी में जर्मन ज्योतिष ‘अल्फ्रेड वाइट’ ने यूरेनियन ज्योतिष शास्त्र की स्थापना की थी। इसमें डायल का इस्तेमाल किया जाता था। इस शाखा में ग्रहों के कठोर पहलुओं एवं दो ग्रहों के बीच के सम्बन्ध और आठ अतिरिक्त काल्पनिक ग्रहों के बीच 0, 90 या 180 डिग्री अलग होने पर जोर दिया गया।

• कॉस्मो बायोलॉजी

1930 के दशक में रेनहोल्ड एवर्टन ने यूरेनियन ज्योतिष की आगे की घटनाओं को लोकप्रिय बनाया। उन्होंने काल्पनिक ग्रहों के उपयोग को खारिज कर दिया और ज्योतिष के चिकित्सा पहलुओं पर अधिक ध्यान केंद्रित किया।

• हार्मोनिक ज्योतिष शास्त्र 

हार्मोनिक ज्योतिष शास्त्र 1950 के दशक में जॉन अदई द्वारा खोजा गया जिसमें ग्रहों के बीच संबंधों की जांच करने के लिए गणितीय परिवर्तनों को नियोजित किया गया। हार्मोनिक ज्योतिष शास्त्र मुख्य तौर पर विभिन्न राशि चिन्हों एवं 12 घरों को कम महत्व देता है।

• मनोवैज्ञानिक ज्योतिष शास्त्र 

मनोवैज्ञानिक ज्योतिष शास्त्र मानवतावादी, गहराई और पारस्परिक मनोविज्ञान के साथ ज्योतिष के आपसी निषेचन से उठे थे। इसमें जुंगियन आर्किटाइप, सिंक्रोनिकी और मनोवैज्ञानिक ज़रूरतों जैसे विचार शामिल हैं।

• एस्ट्रो कार्टोग्राफी

एट्रोकार्ट ग्राफी 1970 के दशक के अंत में और 1980 के दशक के अंत में जिम लुईस द्वारा स्थानीय ज्योतिष शास्त्र की एक विधि है। इस विधि में मुख्य रूप से प्राचीन संस्कृतियों की जड़ों से पवित्र स्थलों के साथ तारों के गठबंधन एवं पृथ्वी पर विभिन्न स्थानों से  जुड़े ज्योतिषीय प्रभावों के बारे में अध्ययन करती है।

• अनुभवात्मक ज्योतिष शास्त्र

ये लगभग सभी श्रेणियों मिल कर से बना है। इसमें ज्योतिषीय प्रतीकवाद और पुरातत्व के साथ-साथ शैमेनिज्म, अस्ट्रोडर्मा, निर्देशित विज़ुअलाइज़ेशन या सम्मोहन का उपयोग शामिल है। इसको बारबरा स्कर्मर और बाबस किर्बी जैसे ज्योतिषियों ने बढ़ावा दिया।

• विकासवादी ज्योतिष शास्त्र 

1980 और 1990 के दशक के उत्तरार्ध में जेफरी वुल्फ ग्रीन ने थियोडॉजिकल आन्दोलन, मनोवैज्ञानिक ज्योतिष शास्त्र के साथ भारतीय दर्शन शास्त्र के तत्वों को जोड़कर विकासवादी ज्योतिष शास्त्र को जन्म दिया।

• पारंपरिक पुनरुद्धार या नव-शास्त्रीय

1990 के दशक में पारंपरिक हेलेनिस्टिक और अन्य अवधियों के मूल ज्योतिषीय कार्यों को फिर से खोज और अनुवाद करने में बढ़ती रुचि देखी गई। पारंपरिक पुनरुद्धार ज्योतिष शास्त्र में नए खोज ग्रहों को शामिल किया गया है।

ज्योतिष शास्त्र से जुड़ी ऐसी ही जानकारियां पाने के लिए हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़ें। 

जानें ज्योतिष शास्त्र की शाखाओं के बारे में।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top